वृष

‘वार्षिक भविष्य – 2019’

—- डाॅ. अजय भाम्बी

वृषः

कीवर्ड:
राशि चिन्ह: वृषभ (बैल)
राशि तत्व: पृथ्वी
राशि स्वामी: शुक्र

जनवरी से मार्च के मध्य में बृहस्पति आपकी राशि सप्तम स्थान में रहेगा और राहू 23 मार्च तक तृतीय भाव में विचरण करेगा। यह समय हर तरह से बेहतरीन सिद्ध होगा। वर्तमान नौकरी, व्यवसाय में आगे बढ़ने के अवसर प्राप्त होंगे। यदि किसी नये काम का शुभारम्भ करना चाह रहे हैं तो उसके लिए भी समय काफी उपयुक्त रहेगा। यदि विवाह के योग्य हैं तो विवाह का योग भी बना हुआ है। आपके संपर्क के दायरे का विस्तार होगा और जिन लोगों से जान-पहचान होगी उनसे आपको पर्याप्त लाभ भी प्राप्त होता रहेगा। कार्य से संबंधित यात्राओं का सिलसिला बना रहेगा और इन यात्राओं से भविष्य के लिए सुखद स्थितियां निर्मित होंगी।

अप्रैल का महीना मिले-जुले फल प्रदान करेगा। 29 मार्च को बृहस्पति धनु में प्रवेश कर चुका है और बहुत अल्प समय तक ही इस राशि में रहकर 23 अप्रैल को पुनः वृश्चिक राशि में आ जायेगा। जोखिम उठाने की दृष्टि से यह महीना उचित नहीं है। धन संबंधी मामलों में विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। वाणी पर भी संयम बतरने की आवश्यकता है।

मई से लेकर अक्टूबर तक का समय कुल मिलाकर तो बहुत अच्छा रहेगा हालांकि बीच – बीच में थोड़ी उनझने भी पेश आएंगी। इस पूरी अवधि में बृहस्पति तो वृश्चिक में ही रहने वाला है। शनि और केतु अष्टम् भाव में ही रहेंगे। जहां एक और बृहत योजनाओं में प्रवेश करने का योग बनेगा वहीं दूसरी तरफ थोड़ा आगे चलकर कार्यों में मुश्किलें भी पेश आने लगेंगी। कभी धन को लेकर संकट हो सकता है और जिन लोगों के साथ डील कर रहे हैं वो भी समस्या पैदा कर सकते हैं। वर्तमान रोजी-रोजगार में कुछ ज्यादा असुविधा पेश नहीं आएंगी। मित्र – शुभचिन्तकों का सहयोग बना रहेगा। जो लोग परीक्षा, प्रतियोगिता या किसी अन्य कम्पीटीशन में हिस्सा ले रहें हैं उन्हें विशेष प्रयत्न करने से ही सफलता मिलेगी। अगस्त और सितम्बर के महीने थोड़े कमजोर हैं। पारिवारिक स्तर पर भी तनाव झेलना पड़ सकता है। रोजी-रोजगार को लेकर भी कुछ उलझनें पेश आ सकती हैं। स्वयं का व्यवहार या परिवार में किसी का स्वास्थ्य दोनों ही तकलीफदेह हो सकते हैं।

नवम्बर – दिसम्बर के महीनों में भी स्थितियां संभवतः आपके पक्ष में नहीं रहेंगी। 5 नवम्बर को बृहस्पति भी शनि, केतु की युति के साथ अष्टम् भाव में सम्मिलित हो जायेगा। यह समय थोड़ा पीड़ादायक हो सकता है। विरोधियों के षडयंत्र के प्रति इस दौरान खासतौर से सतर्क रहें। पैतृक संपत्ति को लेकर यदि कोई मामला न्यायालय में चल रहा है और उसका फैसला आने को है तो हो सकता है यह फैसला आपके पक्ष में ना रहे। यदि समय रहते आपसी सहमति से मसले को सुलझाने का प्रयास करेंगे तब आपको सफलता मिल भी सकती है। बाकी ग्रह अच्छे हैं जिसके फलस्वरूप आपका मनोबल ऊंचा रहेगा और विपरीत स्थितियों में भी आप साहस का परिचय देंगे। कंफ्यूजन की स्थिति में खास मित्र-शुभचिंतकों से विचार-विमर्श करना आपके लिए लाभदायक रहेगा। यात्राओं का माहौल तो इस दौरान बनेगा लेकिन वही यात्राएं करना चाहिए जो हर तरीके से लाभ प्रदान कर सकती हैं। जो लोग रचनात्मक कार्यों से जुड़े हैं या खेल जगत में अपना भविष्य बनाने की इच्छा रखते हैं तो उनके लिए यह समय काफी अच्छा है। लेकिन उच्च स्तर की सफलता प्राप्त करने के लिए प्रयास भी उच्च स्तर के होने चाहिए।

परिवारः

परिवार की दृष्टि से यह वर्ष काफी अच्छा है। पारिवारिक वातावरण खुशहाली लिए रहेगा एवं परिवार में आत्मीयता का माहौल भी देखने को मिलेगा। जनवरी से मार्च और मई से जुलाई के मध्य परिवार में कोई शुभ कार्य भी हो सकता है। बच्चों का प्रदर्शन भी काफी सराहनीय रहेगा। अगर कोई बच्चा कम्पीटीशन या उच्च शिक्षा के लिए प्रयत्नशील है तो उसे अच्छी सफलता प्राप्त हो सकती है और आप भी उसका मार्गदर्शन सही तरीके से करें।

धन-सम्पत्तिः

इस वर्ष बृहस्पति अधिकतर आपकी राशि से सप्तम् भाव में ही विचरण करेगा और बाकी ग्रह भी कुल मिलाकर अच्छे हैं। यदि नया मकान, फ्लैट या प्रोपर्टी लेना चाह रहे हैं तो उसमें आपको सफलता प्राप्त होगी। इस वर्ष आर्थिक स्थिति भी सुदृढ़ होगी। वाहन खरीदने का योग भी चल रहा है। घर या आॅफिस के रेनोवेशन का प्लान भी बना सकते हैं।

कार्यक्षेत्रः

आप अपनी कार्य प्रणाली में वो बदलाव इस वर्ष ला पायेंगे जो पिछले काफी समय से आपके मन में हैं। कार्य स्थल, आॅफिस, दुकान आदि में आप नई योजनाओं पर काम करेंगे और उसमें आपको अच्छी सफलता भी प्राप्त होगी जिसके कारण लोग आपकी प्रशंसा भी करेंगे। हालांकि जो माह उपयुक्त नहीं है (अन्यत्र देंखे) उन दिनों में अपने सहयोगियों या अधिकारियों के साथ तनाव की स्थिति भी बन सकती है। इसे आप अपनी युक्ति से हल भी कर सकते हैं।

सेहतः

सेहत की दृष्टि से कुल मिलाकर यह वर्ष बहुत अच्छा है फिर भी हर व्यक्ति को अपने खान-पान, व्यायाम, नियम और अनुशासन का पालन अवश्य करना चाहिए। अनजाने मे ंहम कई बार समस्याएं मोल ले लेते हैं जिनमें से बाद में निकलना आसान नहीं होता। अप्रैल, जुलाई और नवम्बर के माह स्वास्थ्य की दृष्टि से नरम हैं।

ज्योतिषीय उपायः

आपकी राशि के अनुसार आप नीलम, पन्ना और हीरा पहन सकते हैं। अगर स्वास्थ्य में कोई परेशानी है तो ओपल भी धारण किया जा सकता है। कार्यक्षेत्र में सफलता के लिए पांच मुखी रूद्राक्ष धारण करने से सभी समस्याओं के समाधान आसानी से प्राप्त होंगे।

क्या करेः

योग, ध्यान और धैर्य को अपना सारथी बनाने से कुछ समस्याएं स्वयं ही हल हो जाती है। अतः इस नियम का पालन करें।

क्या न करेंः

इस वर्ष ग्रह स्थिति बहुत अच्छी नहीं है इसलिए कोई बड़ा कदम बहुत ही सोच-विचार और किसी विशेषज्ञ के साथ सलाह-मशविरा करने के बाद ही उठायें।