धनु

‘वार्षिक भविष्य – 2019’

—- डाॅ. अजय भाम्बी

धनु:

कीवर्ड:
राशि चिन्ह: धनुर्धर
राशि तत्व: अग्नि
राशि स्वामी: बृहस्पति

जनवरी से मार्च के मध्य आपकी राशि से बृहस्पति बारहवें स्थान में और राहू अष्टम स्थान में और केतु द्वितीय भाव और शनि आपकी राशि पर से गुजर रहा है। जिसके फलस्वरूप ये महीने काफी चिन्ता जनक सिद्ध हो सकते हैं नौकरी, व्यवसाय आदि के क्षेत्र में व्यर्थ की उलझनें बढ़ेंगी। छोटे-छोटे विवाद भी विकराल रूप ले सकते हैं। अतः ऐसी स्थिति में स्वयं को बचाना चाहिए। पूंजी निवेश संबंधी कार्यकलापों के लिए यह समय अच्छा नहीं है। इस तरह की योजनाओं पर विचार करने से पहले किसी योग्य व्यक्ति से परामर्श करना आपके लिए सहायक सिद्ध होगा। धन संबंधी मामलों में भी उलझनें पेश आएंगी। अपना ही धन वापिस लेने में मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है इसलिए लेन-देन के मामले में सावधानी से काम लें। स्वयं का या किसी परिजन का स्वास्थ्य भी इन दिनों चिन्ता का विषय हो सकता है। धैर्य और संयम से काम लें। मित्र-शुभचिन्तकों का सहयोग बना रहेगा और वे आपके मनोबल का नीचे भी नहीं आने देंगे।

अप्रेल का महीना काफी राहत प्रदान करने वाला सिद्ध होगा। बृहस्पति 29 मार्च को आपकी राशि में आ चुका है लेकिन ये यहां काफी अल्प समय के लिए रहेगा। लेकिन 23 मार्च को राहू आपकी राशि से सप्तम स्थान में आ गया है इसलिए अब स्थितियां बेहतर होंगी। यदि परीक्षा, प्रतियोगिता या इंटरव्यू आदि में सम्मिलित हो रहे हैं तो अपने प्रयत्नों में कमीं न आने दें कार्य सिद्ध होगा। रोजी-रोजगार के क्षेत्र में किये गये प्रयास आपको सफलता प्रदान करेंगे। कार्यवश यात्रा हो सकती है जो आपके लिए लाभदायक रहेगी। पारिवारिक सुख में वृद्धि होगी और जीवन साथी का भरपूर सहयोग भी प्राप्त होता रहेगा।

मई से अक्टूबर के मध्य का समय मिले-जुले परिणाम दर्शाता है लेकिन अगर सावधानी से कार्य करेंगे तो आपको अच्छी सफलता भी प्राप्त होगी। आपकी राशि के अन्य महत्वपूर्ण ग्रह सूर्य और मंगल हैं। मई – जून में दोनों ही आपकी राशि के लिए सहयोगी रहेंगे इसलिए इन दिनों में जो भी कार्य आप हाथ में लेंगे उसमें आपको सफलता प्राप्त होगी। यदि परीक्षा, प्रतियोगिता या किसी अन्य महत्वपूर्ण कार्य में हिस्सा ले रहे हैं तो आपको सफलता मिलेगी। रोजी-रोजगार आदि प्राप्त करने की दिशा में किये कार्य सफलता प्रदान करेंगे। कोई नया प्रेम प्रसंग भी इन दिनों प्रारम्भ हो सकता है। जुलाई के माह में मंगल की राशि से कमजोर स्थिति होने के कारण व्यर्थ की उलझनें बढ़ेंगी। वाद-विवाद से बचना चाहिए। स्वास्थ्य या दुर्घटना का भय भी बना हुआ है।

अगस्त – सितम्बर और अक्टूबर के महीने काफी सहायक सिद्ध होंगे। पूर्व में आयी अड़चनों से राहत प्राप्त होगी। आपके आत्म विश्वास में वृद्धि होगी और पुनः स्थितियों को अपने नियंत्रण में करने में सफल रहेंगे। आर्थिक स्थिति पहले से बेहतर रहेगी फिर भी निवेश संबंधी योजनाओं पर पुनर्विचार करने की आवश्यकता है।

नवम्बर – दिसम्बर के महीने विशेष रूप से अच्छे रहेंगे। बृहस्पति 5 नवम्बर को आपकी राशि प्रवेश कर जाएगा जहां शनि और केतु के साथ युति बनाएगा। पूर्व में आई दिक्कतों से अब राहत मिलने लगेगी। वर्तमान रोजी-रोजगार में सुखद स्थितियां निर्मित होंगी। अगर रोजी-रोजगार की तलाश में हैं तो इसमें भी आपको सफलता प्राप्त होगी। आर्थिक स्थिति में व्यापक सुधार होगा और किसी आय संबंधी योजना में प्रवेश भी कर सकते हैं। पारिवारिक वातावरण खुशहाली लिए रहेगा एवं परिजनों में सदभाव बढ़ेगा।

परिवारः

परिवार की दृष्टि से यह वर्ष थोड़ा नरम है। जनवरी, फरवरी और जुलाई के महीने प्रतिकूल हैं। इन दिनों में परिजनों में आपसी वैमनस्य हो सकता है। ऐसी स्थिति में आपको उच्च आदर्शों को निभाते हुए धैर्य और संयम से काम लेना चाहिए। इसी दौरान किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य को लेकर भी अवसाद का वातावरण निर्मित हो सकता है।

धन सम्पत्तिः

आर्थिक क्षेत्र में थोड़ा स्ट्रगल करना पड़ेगा। व्यय की अधिकता बनी रहेगी और चाहकर भी खर्चों में कटौती नहीं कर पायेंगे। पूंजी निवेश संबंधी योजनाओं पर बिना सोचे-समझे अमल नहीं करना चाहिए। उन महीनों का खासतौर से ध्यान रखें जिनका जिक्र अन्यत्र किया गया है।

कार्यक्षेत्रः

कार्य क्षेत्र में काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। देखने में स्थितियां प्रतिकूल मालूम पड़ेंगी लेकिन उतनी नहीं होंगी जितनी दिखेंगी। अगर आप स्वविवेक से सिचुएशन को समझकर फैसले करेंगे तब आपको आशातीत सफलता भी मिलेगी। फिर भी उन महीनों का ध्यान रखना चाहिए जो प्रतिकूल हैं और जिनका जिक्र इसी राशिफल में किया हुआ है।

सेहतः

सेहत के बारे में हमारी एक मान्यता है कि अधिकतर सेहत ना तो एक दिन में बिगड़ती है और ना ही संवरती है। इसलिए सेहत के प्रति सतत सतर्क रहना चाहिए। अगर खान-पान, आचार-व्यवहार, व्यायाम, योग, साधना अनुशासनबद्ध तरीके से किये जाएं तो प्रतिकूल ग्रहों की स्थिति को भी साधा जा सकता है। वरना उन माहों का ध्यान रखें जिनका जिक्र यहां किया गया है।

ज्योतिषीय उपायः

आपकी राशि के लिए 8 मुखी, 11 मुखी और 15 मुखी रूद्राक्ष का प्रयोग सदैव लाभदायक रहेगा। पुखराज, मूंगा और माणिक धारण करने से इस वर्ष काफी लाभ होगा। यदि बृहस्पतिवार का व्रत कर सकें तो अच्छा रहेगा।

क्या करेंः

इस समय का अवश्य लाभ उठायें जब आकाश आपके पक्ष में है। उस समय का जिक्र आपके राशिफल में किया हुआ है।

क्या न करेंः

गलत समय पर अच्छा कार्य भी बिगड़ जाता है। यह एक सनातन सूत्र है। समय को साधने से भाग्य प्रबल हो जाता है। कठिन समय में महत्वपूर्ण निर्णय न लें।